Wednesday, January 26, 2022
04
01
03
WhatsApp Image 2021-10-31 at 13.53.47
DezireEvent
VeerSingh
previous arrow
next arrow
Shadow
01
02
04
WhatsAppImage2021-11-27at172143
1q21qa1
1q21qa2
1q21qa3
previous arrow
next arrow
Shadow
Home राज्य उत्तराखंड उत्तराखंड में ब्लैक फगंस के बाद, ये कौनसा नया फगंस अपने पैर...

उत्तराखंड में ब्लैक फगंस के बाद, ये कौनसा नया फगंस अपने पैर पसार रहा

SPECIAL OFFERS IN GURUMAA ELECTRONICS

03
01
02
previous arrow
next arrow
Shadow

एफएनएन, रुद्रपुर : ब्लैक फंगस के बाद अब कोरोना से स्वस्थ हुए मरीजों में एस्परजिलस का संक्रमण देखने को मिला है। एस्परजिलस फंगस से होने वाली बीमारी के 20 पीड़ित दून के विभिन्न अस्पतालों में भर्ती हैं। मरीज की इम्यूनिटी कम होना इसकी वजह बताई जा रही है। महंत इंदिरेश अस्पताल पटेलनगर के वरिष्ठ पल्मनोलॉजिस्ट एवं कोरोना के नोडल अफसर डॉ. जगदीश रावत ने बताया कि आईसीयू में भर्ती 100 में से 10 मरीजों में यह फंगस दिखा है। कोरोना से रिकवर होने वाले मरीजों में यह ज्यादा घातक देखा जा रहा है। यह फेफड़ों को ज्यादा संक्रमित करता है। ब्लैक फंगस की तरह ही इस संक्रमण में भी एम्फोटेरिसिन-बी के इंजेक्शन दिए जाते हैं। इसकी अन्य दवाएं भी हैं।एम्फोटेरिसिन-बी के इंजेक्शन की कमी की वजह से फिलहाल दूसरी दवाओं का सहारा लिया जा रहा है। उन्होंने बताया कि अभी महाराष्ट्र और गुजरात में इस तरह के केस ज्यादा आए हैं। नमी अधिक होना भी इसका एक कारण है।

फेफड़े हुए खराब तो संक्रमण की आशंका अधिक
राजकीय दून मेडिकल कॉलेज अस्पताल के वरिष्ठ पल्मनोलॉजिस्ट एवं कोरोना के नोडल अफसर डॉ. अनुराग अग्रवाल ने बताया कि जिन मरीजों के फेफड़ों में पहले से संक्रमण या खराबी होती है, उनमें एस्परजिलस फंगस के संक्रमण की आशंका अधिक होती है। पुरानी टीबी, फेफड़ों में कैविटी के अंदर बॉल बन जाने, एलर्जी होने से यह फंगस कई बार फेफड़े में अंदर तक पहुंच जाता है। कोरोना के बाद भी कुछ मामलों में यह देखा गया है, लेकिन कोरोना से इसका क्या संबंध है यह अभी शोध का विषय है।
फेफड़ों के साथ अन्य अंगों में फैला तो होगा घातक

जिस तरह से ब्लैक फंगस आंख, नाक, कान, गले और अन्य अंगों में फैल रहा है अगर यह भी फेफड़ों से इतर दूसरे अंगों में फैलने लगेगा तो अत्यंत घातक हो सकता है। उन्होंने बताया कि इस बीमारी के इलाज की टेबलेट और इंजेक्शन दवाएं फिलहाल उपलब्ध हैं।

घबराएं नहीं. सभी जरूरी जांचें कराएं
राजकीय दून मेडिकल कॉलेज अस्पताल के असिस्टेंट प्रोफेसर एवं वरिष्ठ फिजीशियन डॉ. कुमार जी. कॉल का कहना है कि अगर किसी भी तरह के लक्षण दिखाई दें तो तत्काल अस्पताल पहुंचकर डॉक्टर से सलाह लें। डॉक्टर द्वारा बताई गई सभी जांच आवश्यक तौर पर करा लें। जब तक सभी रिपोर्ट सामान्य न आ जाएं और डॉक्टर सलाह न दें तब तक अस्पताल में ही इलाज कराएं।

RELATED ARTICLES

आम आदमी पार्टी ने जारी की प्रत्याशियों की चौथी सूची

एफएनएन, रुद्रपुर : आम आदमी पार्टी ने प्रत्याशियों की चौथी सूची जारी कर दी है। जिसमें पार्टी ने 10 दावेदारों के नाम का एलान किया...

पुलिस ने एक व्यक्ति को नाजायज चाकू के साथ किया गिरफ्तार

एफएनएन, काशीपुर : बांसफोड़ान पुलिस चैकी में तैनात कांस्टेबल देवेन्द्र पांडेय व कुशल सिंह ने मौहल्ला अल्लीखां में कब्रिस्तान के पास से हजरत नगर...

पुलिस ने स्मैक के साथ एक व्यक्ति को किया गिरफ्तार

एफएनएन, काशीपुर : पुलिस ने स्मैक के साथ एक युवक को गिरफ्तार किया है। कटोराताल पुलिस चैकी प्रभारी नवीन बुधानी, कांस्टेबल मोहन व प्रेम...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

आरआरबी-एनटीपीसी रिजल्ट को लेकर बवाल, पुलिस से भिड़े छात्र, रेलवे ट्रैक किया जाम

एफएनएन, दिल्ली : रेलवे भर्ती बोर्ड (आरआरबी) एनटीपीसी परीक्षा के रिजल्ट में संशोधन की मांग को लेकर अभ्यर्थियों का प्रदर्शन लगातार दूसरे दिन भी...

आम आदमी पार्टी ने जारी की प्रत्याशियों की चौथी सूची

एफएनएन, रुद्रपुर : आम आदमी पार्टी ने प्रत्याशियों की चौथी सूची जारी कर दी है। जिसमें पार्टी ने 10 दावेदारों के नाम का एलान किया...

पुलिस ने एक व्यक्ति को नाजायज चाकू के साथ किया गिरफ्तार

एफएनएन, काशीपुर : बांसफोड़ान पुलिस चैकी में तैनात कांस्टेबल देवेन्द्र पांडेय व कुशल सिंह ने मौहल्ला अल्लीखां में कब्रिस्तान के पास से हजरत नगर...

पुलिस ने स्मैक के साथ एक व्यक्ति को किया गिरफ्तार

एफएनएन, काशीपुर : पुलिस ने स्मैक के साथ एक युवक को गिरफ्तार किया है। कटोराताल पुलिस चैकी प्रभारी नवीन बुधानी, कांस्टेबल मोहन व प्रेम...

Recent Comments