Monday, July 4, 2022
krishna
sarso
04
01
03
previous arrow
next arrow
Shadow
Home राष्ट्रीय एमनेस्टी इंटरेशनल इंडिया ने भारत में अपना कामकाज रोका, संस्था ने लगाए...

एमनेस्टी इंटरेशनल इंडिया ने भारत में अपना कामकाज रोका, संस्था ने लगाए ये अरोप

SPECIAL OFFERS IN GURUMAA ELECTRONICS

एफएनएन, नई दिल्ली:  दुनिया भर में मानवाधिकारों पर काम करने वाली संस्था एमनेस्टी इंटरनेशनल ने भारत में अपना कामकाज रोक दिया है। एमनेस्टी का कहना है कि केंद्र सरकार उसके खिलाफ बदले की भावना से काम कर रही है। उसके बैंक अकाउंट को फ्रीज कर दिया गया है जिससे उसके लोगों को भारत में काम बंद करने के लिए मजबूर होना पड़ा है। जिसके बाद उसे अपने अधिकतर स्टाफ को निकालना पड़ा। संस्था ने भारत सरकार पर बुरी नीयत से पीछे पड़ जाने का आरोप लगाया है। सरकार का कहना है कि इस संस्था ने एफसीआरए के तहत कभी रजिस्ट्रेशन ही नहीं कराया है, जो विदेशी फंडिंग के लिए जरूरी होता है। एमनेस्टी ने कहा है कि ‘भारत सरकार की ओर से एमनेस्टी इंटरनेशनल इंडिया के बैंक अकाउंट्स को पूरी तरह से फ्रीज़ कर दिया है, जिसकी जानकारी संस्था को 10 सितंबर को हुई है। इससे संस्था का कामकाज पूरी तरह से ठप हो गया है।’ संस्था ने कहा कि उसे अपने स्टाफ को निकालने पर मजबूर होना पड़ा है और भारत में चलाए जा रहे कैंपेन और रिसर्च वगैरह बंद करने पड़े हैं।

एमनेस्टी ने लगाए ये आरोप

एमनेस्टी ने आरोप लगाते हुए कहा है कि ‘यह निराधार और प्रेरित आरोपों के बल पर भारतीय सरकार द्वारा मानवाधिकार संस्थाओं के खिलाफ लगातार चलाए जा रहे विच-हंट की कड़ी में अगला कदम है।’ संस्था ने दावा किया है कि उसने सभी भारतीय और अंतरराष्ट्रीय कानूनों का पालन किया है। संस्था के एक्ज़ीक्यूटिव डायरेक्टर अविनाश कुमार ने कहा कि ‘पिछले दो सालों में एमनेस्टी इंटरनेशनल इंडिया पर सरकार की लगातार हो रही कार्रवाई कोई अचानक नहीं है। प्रवर्तन निदेशालय सहित दूसरी सरकारी एजेंसियों की ओर से शोषण हमारी सरकार में पारदर्शिता की मांग, दिल्ली दंगों में दिल्ली पुलिस और भारत सरकार की भूमिका की जवाबदेही तय करने की मांग और दिल्ली और जम्मू-कश्मीर में मानवाधिकारों को उल्लंघन के खिलाफ आवाज उठाने की वजह से हो रहा है। ऐसे अभियान के लिए, जिसने हमेशा अन्याय के लिए आवाज उठाई है, उसपर नया हमला उसकी प्रतिरोध में उठ रही आवाज को उठाकर लिया गया है।’  प्रवर्तन निदेशालय संस्था के खिलाफ विदेशी फंडिंग हासिल करने में अनियमितताओं के आरोपों के खिलाफ जांच कर रही है। गृह मंत्रालय का आरोप है कि संस्था ने ‘भारत में एफडीआई (विदेशी प्रत्यक्ष निवेश) के जरिए पैसे मंगाए’, जिसकी नॉन-प्रॉफिट संस्थाओं को अनुमति नहीं है।

RELATED ARTICLES

एकनाथ शिंदे होंगे महाराष्ट्र के अगले मुख्यमंत्री, फडणवीस ने किया ऐलान

एफएनएन, मुंबई : देवेंद्र फडणवीस और एकनाथ शिंदे ने एक संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस की। इस दौरान फडणवीस ने कहा कि एक तरफ शिवसेना ने...

महाराष्ट्र में सियासी संकट के बीच कोरोना का वार, राज्यपाल के बाद सीएम उद्धव भी संक्रमित

एफएनएन, मुंबई : महाराष्ट्र में सियासी संकट के बीच कोरोना भी प्रभावी हो गया है। राज्यपाल कोश्यारी के बाद अब मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे भी...

पंजाब में अब राहुल गांधी की सुरक्षा में चूक, सिद्धू मूसेवाला के घर जाने के दौरान रास्ता भटका काफिला

एफएनएन, मानसा : पंजाब में विधानसभा चुनाव से पहले पीएम नरेन्द्र मोदी की सुरक्षा की चूक का बड़ा मामला सामने आया था। आज कांग्रेस...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

CommentLuv badge
- Advertisment -

Most Popular

आईएएस रामविलास यादव रिमांड पर : विजिलेंस स्पेशल कोर्ट ने दी एक दिन की मंजूरी, गिरफ्तारी के पहले नहीं दिए थे सवालों के...

एफएनएन, देहरादून : आय से अधिक संपत्ति रखने के आरोप में जेल में बंद पूर्व आईएएस रामविलास यादव को विजिलेंस कस्टडी रिमांड पर लेगी।...

उत्तराखंड : प्रदेश के चार जिलों में मिले 29 नए संक्रमित, 41 मरीज हुए ठीक, 311 सक्रिय मामले

एफएनएन, देहरादून : प्रदेश में बीते 24 घंटे के भीतर चार जिलों में 29 नए कोरोना संक्रमित मिले हैं। 41 मरीज ठीक हुए हैं।...

14 जुलाई को गैरसैंण में सांकेतिक तालेबंदी करेंगे हरीश रावत, कहा- मुद्दे को भूलने नहीं दूंगा

एफएनएन, देहरादून : विधानसभा का बजट सत्र ग्रीष्मकालीन राजधानी गैरसैंण में नहीं कराए जाने से आहत पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने 14 जुलाई को...

उत्तराखंड : सरकारी स्कूलों में घट रही छात्र संख्या से सीएम चिंतित, अफसरों को दिए निर्देश

एफएनएन, देहरादून : मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सरकारी स्कूलों में घटती छात्र संख्या पर चिंता जताई है। उन्होंने अफसरों को निर्देश दिए कि...

Recent Comments