Thursday, September 29, 2022
01
03
WhatsAppImage2022-08-23at33025PM
WhatsAppImage2022-08-23at120424PM
result2022
previous arrow
next arrow
Shadow
Homeविविधसावधान : ज्यादा न करें काढ़े का सेवन

सावधान : ज्यादा न करें काढ़े का सेवन

SPECIAL OFFERS IN GURUMAA ELECTRONICS

एफएनएन, नई दिल्ली: आयुष मंत्रालय ने इम्यूनिटी मजबूत करने के लिए काढ़े का सेवन करने का सुझाव दिया है, कोरोना वायरस महामारी से बचने के लिए लोगों ने काढ़े का इस्तेमाल शुरू भी कर दिया है। कहा जाता है कि काढ़ा न सिर्फ इन्युनिटी ही बढ़ाता है, बल्कि कई तरह से स्वस्थ रखने में मदद भी करता है। लेकिन इसके ज्यादा सेवन से साइड इफेक्ट हो सकता है। ऐसे में दिन में कितनी बार और कितनी मात्रा में काढ़ा पीना चाहिए, इस सवाल का जवाब जानना जरूरी हो जाता है।

एक दिन में कितना काढ़ा ?

विशेषज्ञों का कहना है कि काढ़े की मात्रा की निर्भरता आयुर्वेदिक शरीर के हिसाब से होती है। आयुर्वेद में शरीर को तीन तरह का माना गया है- वात, पित्त और कफ उसके मुताबिक हमारा शरीर इन तीनों में से किसी एक प्रवृत्ति का होता है। इसका अध्ययन कर उसकी बनावट, दोष, मानसिक अवस्था और स्वभाव का पता लगाया जा सकता है।

वात: अगर आपका शरीर वात की तरह है तो काढ़े का इस्तेमाल दिन में दो बार किया जा सकता है। वात शरीर वाले लोग अपने काढ़े में थोड़ा घी भी शामिल कर सकते हैं। जिससे शरीर के सूखापन को दूर किया जा सके।

पित्त: पित्त शरीर वाले लोगों को काढ़ा दिन में एक बार से ज्यादा नहीं पीना चाहिए। इसके अलावा उन्हें कभी नहीं खाली पेट काढ़े का सेवन करना चाहिए। काढ़े का सबसे अच्छा समय पित्त शरीर वाले लोगों के लिए शाम का है।

कफ: दिन में 2-3 बार कफ शरीर वाले लोग काढ़े का सेवन कर सकते हैं। ऐसे लोगों को वायरल संबंधी बीमारी का खतरा ज्यादा रहता है. इसलिए काढ़ा उनके लिए अमृत की तरह काम करता है।

-kadha

काढ़ा के साइड इफेक्ट्स

काढ़ा बनाने के लिए इस्तेमाल किए गए घटक शरीर में गर्मी पैदा करते हैं। हो सकता है शरीर को इससे कुछ खास समस्याएं भी हों। रोजाना इस्तेमाल करने पर अगर आपको कोई लक्षण नजर आ रहा है तो समझिए आप इसका ज्यादा मात्रा में सेवन कर रहे हैं। आपको नाक से खून बहना, पेशाब आने में दिक्कत, मुंह में फोड़ा, खट्टी डकार और बहुत ज्यादा पेट की गैस की समस्या का सामना करना पड़ सकता है।

काढ़े की मात्रा

काढ़ा इस्तेमाल करने वालों को मात्रा पर ध्यान देना चाहिए। 50 मिलीलीटर से ज्यादा काढ़े का सेवन नहीं करना चाहिए। 100 मिलीलीटर पानी में काढ़ा के घटकों को उबलने के लिए छोड़ दें। इस तरह जब घटकर 50 मिलीलीटर हो जाए तो उसका सेवन किया जा सकता है

ताजा खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img
spot_img

Most Popular

Recent Comments