Monday, July 4, 2022
krishna
sarso
04
01
03
previous arrow
next arrow
Shadow
Home राष्ट्रीय भांग से बनी कोरोना की दवा ! भारत में हो सकता है...

भांग से बनी कोरोना की दवा ! भारत में हो सकता है ट्रायल

SPECIAL OFFERS IN GURUMAA ELECTRONICS

एफएनएन: नई दिल्ली : वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के इलाज की खोज में दुनियाभर के वैज्ञानिक दिन-रात लगे हुए हैं। वहीं, कनाडा के कुछ वैज्ञानिक ने दावा किया है कि भांग यानि कैनाबिस से कोरोना संक्रमण रोका जा सकता है। यह दावा कनाडा की एक दवा कंपनी ने किया है। कंपनी ने एक ऐसी दवा बनायी है जो कोरोना वायरस के लिए बनाई गई टीकों की तरह साइड इफेक्ट्स नहीं है। और यह कोरोना वायरस की वजह से होने वाले दिल संबंधी बीमारियों से भी बचाएगी। कंपनी अपनी दवा का भारत में ट्रायल करने के लिए भारत सरकार से बात कर रही है।

भांग से बनने वाले उत्पाद अमेरिका के कई राज्यों में वैध

कनाडा की दवा कंपनी अकसीरा का मानना है कि भांग से बनने वाले उत्पाद अमेरिका के कई राज्यों में वैध है। कनाडा में भी कई राज्यों में भांग को लीगल घोषित किया जा चुका है। इससे बनने वाली दवाओं में साइकोएक्टिव प्रापर्टी होती है। यह मानव के तंत्रिका तंत्र को आराम देती है। जिसकी वजह से शरीर के अन्य हिस्सों में होने वाले दर्द और दिक्कतों से भी राहत मिलती है।

टेस्ट में भांग के अर्क ने किया काम

टेस्ट में यह पता चला कि कोरोना वायरस के मानव शरीर में कोरोना वायरस को ग्रहण करने वाली कोशिकाओं पर भांग के अर्क ने अपना प्रभाव डाला। इस कारण कोरोना को शरीर में फैलने से रोका जा सकता है। वैज्ञानिकोंका मानना है कि इसकी सहायता से मानव शरीर में कोरोना वायरस के बढ़ने की प्रक्रिया को रोका जा सकता है।

कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों में नई बीमारी

कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों को दिल संबंधी एक बीमारी होती है, जिसे एरिथमिया कहते हैं। इस बीमारी में दिल की बीट्स यानी धड़कन सही से नहीं चलती। कभी तेज कभी धीमी चलती है। जबकि, आमतौर पर दिल की धड़कन एक सामान्य फ्लो में चलती है। दिल में एरिथमिया तब होता है जब दिल में जाने वाली इलेक्ट्रिकल इंपल्सेस सही से काम नहीं करती हैं। अगर इसकी सही समय पर जांच न की जाए तो इससे दिल का दौरा पड़ने की आशंका रहती है। या फिर दिल संबंधी अन्य गंभीर बीमारियां हो सकती हैं।

दवा का नाम कैनाबिडियोल है

अकसीरा दवा कंपनी की कोरोना के लिए बनाई गई दवा का नाम कैनाबिडियोल है। दवा कंपनी का दावा है कि उनकी दवा कई तरह की बीमारियों का इलाज कर रही है। जैसे तेज दर्द का इलाज करता है। कीमोथैरेपी के होने वाले साइड इफेक्ट्स को कम करता है। इसमें एंटीवायरल खूबियां भी हैं। इसलिए कंपनी का दावा है कि यह कोरोना वायरस का इलाज भी कर देगी।

RELATED ARTICLES

एकनाथ शिंदे होंगे महाराष्ट्र के अगले मुख्यमंत्री, फडणवीस ने किया ऐलान

एफएनएन, मुंबई : देवेंद्र फडणवीस और एकनाथ शिंदे ने एक संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस की। इस दौरान फडणवीस ने कहा कि एक तरफ शिवसेना ने...

महाराष्ट्र में सियासी संकट के बीच कोरोना का वार, राज्यपाल के बाद सीएम उद्धव भी संक्रमित

एफएनएन, मुंबई : महाराष्ट्र में सियासी संकट के बीच कोरोना भी प्रभावी हो गया है। राज्यपाल कोश्यारी के बाद अब मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे भी...

पंजाब में अब राहुल गांधी की सुरक्षा में चूक, सिद्धू मूसेवाला के घर जाने के दौरान रास्ता भटका काफिला

एफएनएन, मानसा : पंजाब में विधानसभा चुनाव से पहले पीएम नरेन्द्र मोदी की सुरक्षा की चूक का बड़ा मामला सामने आया था। आज कांग्रेस...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

CommentLuv badge
- Advertisment -

Most Popular

सीएम धामी ने तिरुपति बालाजी के दर्शन कर लिया आशीर्वाद, दिल्ली में यूनिफॉर्म सिविल कोड को लेकर पहली बैठक

एफएनएन, देहरादून : मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सोमवार को आंध्र प्रदेश के तिरुमाला पर्वत पर स्थित भगवान श्री तिरुपति बालाजी मंदिर में पूजा-अर्चना...

आईएएस रामविलास यादव रिमांड पर : विजिलेंस स्पेशल कोर्ट ने दी एक दिन की मंजूरी, गिरफ्तारी के पहले नहीं दिए थे सवालों के...

एफएनएन, देहरादून : आय से अधिक संपत्ति रखने के आरोप में जेल में बंद पूर्व आईएएस रामविलास यादव को विजिलेंस कस्टडी रिमांड पर लेगी।...

उत्तराखंड : प्रदेश के चार जिलों में मिले 29 नए संक्रमित, 41 मरीज हुए ठीक, 311 सक्रिय मामले

एफएनएन, देहरादून : प्रदेश में बीते 24 घंटे के भीतर चार जिलों में 29 नए कोरोना संक्रमित मिले हैं। 41 मरीज ठीक हुए हैं।...

14 जुलाई को गैरसैंण में सांकेतिक तालेबंदी करेंगे हरीश रावत, कहा- मुद्दे को भूलने नहीं दूंगा

एफएनएन, देहरादून : विधानसभा का बजट सत्र ग्रीष्मकालीन राजधानी गैरसैंण में नहीं कराए जाने से आहत पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने 14 जुलाई को...

Recent Comments