Sunday, July 3, 2022
krishna
sarso
04
01
03
previous arrow
next arrow
Shadow
Home राष्ट्रीय एलएसी पर युद्ध जैसी तैयारी, टैंक्स और आधुनिक हथियार तैनात

एलएसी पर युद्ध जैसी तैयारी, टैंक्स और आधुनिक हथियार तैनात

SPECIAL OFFERS IN GURUMAA ELECTRONICS

एफएनएन, नई दिल्ली : लद्दाख में भारत और चीन सीमा के बीच लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल पर हालात जंग की तरह लग रहे हैं। दोनों तरफ की सेनाओं ने एलएएसी के पास टैंक्स, मशीनगन और आधुनिक हथियारों का जमावड़ा कर लिया है और एयरफोर्स की ताकत भी बढ़ाई जा रही है।

लद्दाख में एलएसी पर भारत-चीन के बीच तनाव बना हुआ है। लंबे वक्त से सीमा पर चल रहे विवाद को निपटाने के लिए शनिवार को चुशुल में ब्रिगेड- कमांडर स्तर की वार्ता अनिर्णायक रही। इस बीच एलएसी पर हालात बहुत तनावपूर्ण बने हुए हैं। चीन सीमा पर टाइप 15 लाइट टैंक्स, इंफैंट्री फाइटिंग व्हिकल्स, AH4 हॉवित्जर गन्स, HJ-12 एंटी टैंक्स गाइडेड मिसाइल्स, NAR-751 लाइट मशीनगन, W-85 हैवी मशीनगन और एंटी-मैटेरियल स्नाइपर राइफल्स के साथ भारत को चुनौती दे रहा है। वहीं भारत ने जबाव में एलएसी पर T-90 भीष्म टैंक्स, BMP-2K इंफैंट्री फाइटिंग व्हिकल्स, M777 अल्ट्रा लाइट हॉवित्जर गन्स, स्पाइक एंटी-टैंक गाइडेड मिसाइल्स, NEGEV लाइट मशीनगन्स, TRG स्नाइपर राइफल्स की तैनाती की हुई है।

आसमान में भी ऐसे ही कुछ हालात हैं। भारत के लद्दाख क्षेत्र में सुखोई 30, मिग 29, मिराज 2000, चिनूक और अपाचे हेलिकॉप्टर की तैनाती की हुई है। वहीं चीन ने एलएसी पर लगे इलाकों में सैन्य ठिकानों के साथ-साथ एयरफोर्स की ताकत जुटाना शुरू कर दिया था। उसने तिब्तत के उतांग क्षेत्र में एयरबेस तैयार किया जो एलएसी से सिर्फ 200 किमी की दूरी पर है।

चेंगदू J-20 स्टील्थ लड़ाकू विमान एलएसी पर सक्रिय किए और अब उसने परमाणु बम गिराने वाले बॉम्बर विमानों के साथ तिब्बत के पठारी क्षेत्र में युद्धाभ्यास भी शुरू कर दिया है। बता दें कि अभी फिंगर 4 पर स्पेशल फ्रंटियर फोर्स और चीनी सेना की दूरी सिर्फ 1.7 किमी है तो दक्षिण पेंगॉन्ग में भारतीय सेना और चीनी सेना की दूरी महज 170 मीटर है।

रेजांग ला में चीनी सेना, भारतीय सेना से से सिर्फ 500 मीटर की दूरी पर है तो वहीं गोगरा पोस्ट पर भारतीय सेना का भारतीय माउंटेन ट्रूप्स और चीनी सेना के बीच महज 500 मीटर का फासला है। चुशूल में भारतीय सेना और चीनी सेना के टैंक आमने-सामने हैं तो देप्सांग में भारतीय बैटल टैंक और चीनी बैटल टैंक के बीच की दूरी महज 6 किमी है।

RELATED ARTICLES

एकनाथ शिंदे होंगे महाराष्ट्र के अगले मुख्यमंत्री, फडणवीस ने किया ऐलान

एफएनएन, मुंबई : देवेंद्र फडणवीस और एकनाथ शिंदे ने एक संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस की। इस दौरान फडणवीस ने कहा कि एक तरफ शिवसेना ने...

महाराष्ट्र में सियासी संकट के बीच कोरोना का वार, राज्यपाल के बाद सीएम उद्धव भी संक्रमित

एफएनएन, मुंबई : महाराष्ट्र में सियासी संकट के बीच कोरोना भी प्रभावी हो गया है। राज्यपाल कोश्यारी के बाद अब मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे भी...

पंजाब में अब राहुल गांधी की सुरक्षा में चूक, सिद्धू मूसेवाला के घर जाने के दौरान रास्ता भटका काफिला

एफएनएन, मानसा : पंजाब में विधानसभा चुनाव से पहले पीएम नरेन्द्र मोदी की सुरक्षा की चूक का बड़ा मामला सामने आया था। आज कांग्रेस...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

CommentLuv badge
- Advertisment -

Most Popular

उत्तराखंड : सरकारी स्कूलों में घट रही छात्र संख्या से सीएम चिंतित, अफसरों को दिए निर्देश

एफएनएन, देहरादून : मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सरकारी स्कूलों में घटती छात्र संख्या पर चिंता जताई है। उन्होंने अफसरों को निर्देश दिए कि...

उत्तराखंड : तीन लाख महिलाएं बनेंगी ‘लखपति दीदी’, कौशल विकास के साथ होगी कारोबार से जोड़ने की पहल

एफएनएन, देहरादून : केंद्र सरकार के ग्रामीण विकास मंत्रालय के राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन (एनआरएलएम) के तहत तीन लाख महिलाओं को लखपति बनाने की...

केदारनाथ धाम के गर्भगृह में प्रवेश पर प्रतिबंध हटाया, अब दर्शन कर सकेंगे श्रद्धालु

एफएनएन, देहरादून : तीर्थयात्री अब केदारनाथ धाम के गर्भगृह में प्रवेश कर दर्शन कर सकेंगे। बदरीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति ने गर्भगृह में प्रवेश पर प्रतिबंध...

उत्तराखंड बनेगा नई शिक्षा नीति को लागू करने वाला देश का पहला राज्य : सीएम धामी

एफएनएन, देहरादून : उत्तराखंड नई शिक्षा नीति को लागू करने वाला देश का पहला राज्य बनेगा। यह कहना है मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी का।...

Recent Comments