Thursday, May 19, 2022
krishna
sarso
04
01
03
previous arrow
next arrow
Shadow
Home अंतरराष्ट्रीय मच्छर ही मिटा देंगे 'आतंकी' मच्छरों की नस्ल

मच्छर ही मिटा देंगे ‘आतंकी’ मच्छरों की नस्ल

SPECIAL OFFERS IN GURUMAA ELECTRONICS

एफएनएन, नई दिल्ली : मच्छर दुनिया का सबसे खतरनाक जीव है। ये ऐसी बीमारियां फैलाता है जिसकी वजह से दुनिया भर में हर वर्ष करीब दस लाख लोग मर जाते हैं। लेकिन, अब विज्ञान ने इतनी तरक्की कर ली है, कि बीमारी फैलाने वाले मच्छरों का पूरी तरह से खात्मा करके इस चुनौती से निजात पाई जा सकती है। मच्छर ही इंसानों में डेंगू और जीका वायरस जैसी बीमारियां फैलाते हैं। इसके लिए अमेरिका में नया प्रयोग होने जा रहा है। अमेरिका के फ्लोरिडा में अगले दो वर्षों में 75 करोड़ जेनेटिकली मॉडिफाइड मच्छर छोड़े जाएंगे। ये मच्छर सामान्य मच्छरों के बीच जाकर उनकी पीढ़ी को नष्ट कर देंगे। या फिर इनकी वजह से ऐसी नस्लें आएंगी जिनके काटने से इंसान किसी बीमारी का शिकार नहीं होगा।

mas

अमेरिका का ये है प्लान

अमेरिका फ्लोरिडा में अगले दो सालों में चरणबद्ध तरीके से 75 करोड़ जेनेटिकली मॉडिफाइड मच्छर छोड़ने की तैयारी कर चुका है। जेनेटिकली मॉडिफाइड मच्छरों को छोड़ने के इस प्रोजेक्ट को अमेरिकी सरकार से अनुमति मिल चुकी है। जेनेटिकली मॉडिफाइड मच्छर ऐसे हैं कि इनके ऊपर किसी भी बीमारी का बैक्टीरिया, वायरस या पैथोजेन असर नहीं करता। इसलिए जब ये सामान्य मच्छरों के साथ संबंध बनाएंगे तो आने वाली मच्छरों की नस्लें भी इनके जीन लेकर पैदा होंगी। बस वो भी बीमारियां फैलाने में नाकाम हो जाएंगे, क्योंकि उनके शरीर में वो जींस होंगे जो बैक्टीरिया, वायरस को दूर रखेंगे।

dengue-14

खत्म हो जाएंगी डेंगू जैसी कई बीमारियां

  • जेनेटिकली मॉडिफाइड मच्छरों को छोड़ने से भविष्य में कीटनाशकों का खर्च बचेगा। ये मच्छर खासतौर से एडीस एजिप्टी मच्छरों की नस्ल को खत्म करेंगे। एडीस एजिप्टी मच्छरों की वजह से ही इंसानों में डेंगू, जीका वायरस और यलो फीवर फैलता है। फिलहाल ये पायलट प्रोजेक्ट फ्लोरिडा कीज में शुरू किया जाएगा। इस काम के लिए अमेरिकी सरकार ने ब्रिटेन में स्थित अमेरिकी कंपनी से समझौता किया है।
  • इस कंपनी का नाम है ऑक्सीटेक। इस काम के लिए अमेरिकी पर्यावरण एजेंसी से भी हरी झंडी मिल चुकी है। ऑक्सीटेक जेनेटिकली मॉडिफाइड मच्छरों को पैदा करती है। यह ऐसे नर एडीस एजिप्टी मच्छर पैदा करेगी जो किसी तरह की बीमारी फैला नहीं पाएंगे।
  • जेनेटिकली मॉडिफाइड नर एडीस एजिप्टी मच्छर जब छोड़े जाएंगे तो ये मादा एडीस मच्छरों से संबंध बनाएंगे। ऐसे में इनके शरीर से एक खास तरह का प्रोटीन मादा एडीस मच्छरों में जाएगा। जिससे आगे पैदा होने वाली मच्छरों की नस्लें बीमारी पैदा नहीं कर पाएंगी।
  • इससे पहले बेहद छोटे पैमाने पर ऐसा प्रयोग ब्राजील में 2016 में किया गया था, उसके नतीजे बेहद सकारात्मक आए थे। ब्राजील में मच्छरों को छोड़े जाने के बाद मच्छर जनित बीमारियों में भारी कमी दर्ज की गई थी।

ताजा खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें

RELATED ARTICLES

बारामुला ग्रेनेड हमले में लश्कर-ए-तैयबा के चार आतंकी, एक सहयोगी भी गिरफ्तार

एफएनएन,श्रीनगर:बारामुला में शराब की दुकान पर ग्रेनेड हमला करने वाले लश्कर-ए-तैयबा के चार आतंकवादियों समेत एक सहयोगी को गिरफ्तार कर लिया है। आइजीपी कश्मीर...

कश्मीर के शोपियां में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ क्रास फायरिंग में घायल नागरिक की मौत

एफएनएन,कश्मीर के शोपियां जिले में रविवार दोपहर सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ शुरू हो चुकी है। दोनों ओर से जारी फायरिंग की चपेट...

जम्मू कश्मीर: आतंकी गठजोड़ में शामिल तीन कर्मचारी बर्खास्त,

एफएनएन,जम्मू-कश्मीर:आतंकियों और अलगाववादियों से गठजोड़ रखने वाले कर्मचारी जांच में दहशतगर्दों के करीबी पाए गए। इन पर आतंकी वारदातों को अंजाम देने से लेकर...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

CommentLuv badge
- Advertisment -

Most Popular

बारामुला ग्रेनेड हमले में लश्कर-ए-तैयबा के चार आतंकी, एक सहयोगी भी गिरफ्तार

एफएनएन,श्रीनगर:बारामुला में शराब की दुकान पर ग्रेनेड हमला करने वाले लश्कर-ए-तैयबा के चार आतंकवादियों समेत एक सहयोगी को गिरफ्तार कर लिया है। आइजीपी कश्मीर...

उत्तराखंड भूस्खलन यमुनोत्री हाईवे का 15 मीटर हिस्सा धंसा, बड़े वाहनों के लिए बाधित

उत्तराखंड के यमुनोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग रानाचट्टी के पास भूस्खलन होने के कारण बड़े वाहनों के लिए अवरुद्ध हो गया है। एनएच की टीम मार्ग...

ज्ञानवापी मामले में निचली अदालत में सुनवाई पर रोक, कल सुप्रीम कोर्ट करेगी सुनवाई

एफएनएन,बनारस सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि ज्ञानवापी मामले पर कल 3 बजे सुनवाई करेगी। तब तक वाराणसी की सिविल अदालत इस मामले में...

कॉर्बेट सहित राज्य के सभी राष्ट्रीय पार्कों और चिड़ियाघरों में 12 साल तक के बच्चों की एंट्री फ्री

एफएनएन,रामनगर : विश्व प्रसिद्ध जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क आने वाले पर्यटकों के लिए अच्छी खबर है। जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क में 12 साल तक...

Recent Comments