Tuesday, October 26, 2021
2-Bansal
4-MountLitera
1-Gurumaa-Dental-Care-scaled
6-Akansha
5-JilaPanchyat
previous arrow
next arrow
Shadow
2-Bansal
4-MountLitera
1-Gurumaa-Dental-Care-scaled
6-Akansha
5-JilaPanchyat
previous arrow
next arrow
Shadow
Home राज्य उत्तराखंड नमामि गंगे परियोजना : अब गंगा की तरह साफ होंगी कुमाऊं की...

नमामि गंगे परियोजना : अब गंगा की तरह साफ होंगी कुमाऊं की छह नदियां, इतने करोड़ का बजट जारी

एफएनएन, देहरादून : राष्ट्रीय नदी गंगा की स्वच्छता और निर्मलता के लिए राज्य में चल रही नमामि गंगे परियोजना के तहत अब कुमाऊं की छह नदियां भी गंगा की तरह साफ-सुथरी होंगी। जल्द ही ऊधमसिंह नगर जिले के अंतर्गत भेला, ढेला, किच्छा, कोसी, नंधौर व पिलखर नदियों में समा रही गंदगी पर अंकुश लग सकेगा।

केंद्र सरकार ने नमामि गंगे के तहत इन नदियों से लगे छह प्रदूषित स्थलों में नौ सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट (एसटीपी) और 17 नालों की टैपिंग के लिए 199 करोड़ रुपये का बजट जारी कर दिया है। अपर सचिव और राज्य में नमामि गंगे परियोजना के कार्यक्रम निदेशक उदयराज सिंह ने इसकी पुष्टि की। नमामि गंगे परियोजना के तहत पहले चरण में गंगा के उद्गम स्थल गोमुख से लेकर हरिद्वार तक के 15 नगरों में एसटीपी और नालों की टैपिंग संबंधी कार्य चल रहे हैं, जो अब अंतिम चरण में हैं। इन कार्यों के अपेक्षानुरूप नतीजे भी सामने आए हैं।

प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की रिपोर्ट ही बताती है कि गोमुख से लेकर ऋषिकेश तक गंगा के पानी की गुणवत्ता उत्तम है। हरिद्वार में भी गंगा के पानी का स्तर सुधरा है। इस सबको देखते हुए प्रदेश सरकार ने गंगा की अन्य सहायक नदियों को भी साफ-सुथरा बनाने के मद्देनजर केंद्र में दस्तक दी। इसी कड़ी में कुमाऊं मंडल के ऊधमसिंह नगर जिले में छह नदियों से लगे क्षेत्रों की कार्ययोजना राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन को भेजी गई।

पूर्व में केंद्र ने नमामि गंगे में इसे सैद्धांतिक मंजूरी दे दी थी।कार्यक्रम निदेशक नमामि गंगे उदयराज सिंह ने बताया कि तीन दिन पहले ही केंद्र ने इन नदियों के लिए धनराशि जारी की। इन कार्यों के लिए ऊधमसिंह नगर में टेंडर की प्रक्रिया की जा रही है। जल्द ही छह नदियों से लगे क्षेत्रों में एसटीपी और नालों की टैपिंग से संबंधित कार्य प्रारंभ किए जाएंगे।

ये होंगे कार्य नदियां,

एसटीपी (संख्या), क्षमता (एमएलडी में)

  • भेला, 03, 10.80
  • पिलखर, 01, 10.00
  • भेला, 02, 3.00
  • किच्छा, 01, 3.00
  • नंधौर, 01, 3.00
  • कोसी, 01, 0.50

इन नालों की होगी टैपिंग

जसपुर खुर्द, इस्माइल एक व दो (भेला), बेजुड़ी, गुलरिया एक व दो, गबिया, आइस फैक्ट्री (ढेला), बेदी मुहल्ला, खटीमा एक और दो, पुरानी मंडी एक और दो, शिवानगर (किच्छा), मुकुंदपुर (कोसी), उकरौली (नंधौर), घोगा (पिलखर)।

RELATED ARTICLES

आपदा के कारण ऊधमसिंह नगर जिले में 45 हजार हेक्टेयर धान की फसल बर्बाद

एफएनएन, रुद्रपुर : बारिश व बाढ़ के चलते धान की तैयार फसल आपदा की भेंट चढ़ गई। कुमाऊं में करीब 46 हजार हेक्टेयर फसल...

कांग्रेस का अलग-अलग रुख, उत्तर प्रदेश में महिलाओं पर दांव, उत्तराखंड में परहेज

एफएनएन, देहरादून : मातृशक्ति के सक्रिय आंदोलन की वजह से अस्तित्व में आए उत्तराखंड राज्य में महिलाओं को 40 फीसद या ज्यादा टिकट पर...

सिडकुल पंतनगर के सीईटीपी प्लांट में प्लांट हेड समेत तीन कर्मचारियों की गिरकर मौत

एफएनएन, रुद्रपुर : पंतनगर सिडकुल में स्थित सीईटीपी प्लांट में प्लांट हेड समेत तीन लोगों की अमोनिया गैस से दम घुटने और डूब कर...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

आपदा के कारण ऊधमसिंह नगर जिले में 45 हजार हेक्टेयर धान की फसल बर्बाद

एफएनएन, रुद्रपुर : बारिश व बाढ़ के चलते धान की तैयार फसल आपदा की भेंट चढ़ गई। कुमाऊं में करीब 46 हजार हेक्टेयर फसल...

कांग्रेस का अलग-अलग रुख, उत्तर प्रदेश में महिलाओं पर दांव, उत्तराखंड में परहेज

एफएनएन, देहरादून : मातृशक्ति के सक्रिय आंदोलन की वजह से अस्तित्व में आए उत्तराखंड राज्य में महिलाओं को 40 फीसद या ज्यादा टिकट पर...

सिडकुल पंतनगर के सीईटीपी प्लांट में प्लांट हेड समेत तीन कर्मचारियों की गिरकर मौत

एफएनएन, रुद्रपुर : पंतनगर सिडकुल में स्थित सीईटीपी प्लांट में प्लांट हेड समेत तीन लोगों की अमोनिया गैस से दम घुटने और डूब कर...

स्वयं सेवक संघ ने आपदा प्रभावितों को बांटा सामान

एफएनएन, रूद्रपुर : आपदा पीड़ितों की मदद के लिए स्वयं सेवक संघ के कार्यकर्ताओं ने हाथ बढ़ाते हुए रविवार को शहर की कई बस्तियों...

Recent Comments