Thursday, May 26, 2022
krishna
sarso
04
01
03
previous arrow
next arrow
Shadow
Home राज्य उत्तर प्रदेश अयोध्या में पारिजात का पौधा भी लगाएंगे प्रधानमंत्री, जानिए महत्व

अयोध्या में पारिजात का पौधा भी लगाएंगे प्रधानमंत्री, जानिए महत्व

SPECIAL OFFERS IN GURUMAA ELECTRONICS

एफएनएन, अयोध्या: पांच अगस्त को प्रधानमंत्री मोदी अयोध्या में श्रीराम जन्मभूमि मंदिर का भूमि पूजन करेंगे। इस दौरान प्रधानमंत्री  मोदी श्रीराम जन्मभूमि परिसर में पारिजात का पौधा भी लगाएंगे। कहते हैं पारिजात वृक्ष की उत्पत्ति समुद्र मंथन के दौरान हुई थी। मान्यता है कि पारिजात को छूने मात्र से ही व्यक्ति की थकान मिट जाती है। पारिजात खासतौर से मध्य भारत और हिमालय की नीची तराइयों में अधिक उगता है। जानिए आखिर क्या है इस पौधे का महत्व जिसकी वजह से इस दिव्य वृक्ष को पूजन समारोह का हिस्सा बनाया जाएगा।

parijat

पारिजात का महत्व

पारिजात के फूल को भगवान हरि के श्रृंगार और पूजन में प्रयोग किया जाता है। इसलिए इस मनमोहक और सुगंधित पुष्प को हरसिंगार के नाम से भी जाना जाता है। खास बात ये है कि पूजा-पाठ में पारिजात के वे ही फूल इस्तेमाल किए जाते हैं जो वृक्ष से टूटकर गिर जाते हैं। पूजा के लिए इस वृक्ष से फूल तोड़ना पूरी तरह से निषिद्ध है। ये फूल रात में ही खिलता है और सुबह होते ही इसके सारे फूल झड़ जाते हैं।

parijT1

पारिजात के फायदे

तनाव घटाता: पारिजात के फूल आपके जीवन से तनाव हटाकर खुशियां ही खुशियां भर सकने की ताकत रखता है। इसकी सुगंध आपके मस्तिष्क को शांत कर देती है। रोज इसका एक बीज सेवन करने से बवासीर रोग ठीक हो जाता है।

थकान मिटाता: पारिजात के यह अद्भुत फूल सिर्फ रात में ही खिलते हैं और सुबह होते होते वे सब मुरझा जाते हैं। यह माना जाता है कि पारिजात के वृक्ष को छूने मात्र से ही व्यक्ति की थकान मिट जाती है। पारिजात की पत्तियों को पीस कर शहद में मिलाकर खाने से सूखी खांसी भी ठीक हो जाती है.

शांति और समृद्धि: हरिवंश पुराण में इस वृक्ष और फूलों का विस्तार से वर्णन मिलता है। इन फूलों को खासतौर पर लक्ष्मी पूजन के लिए इस्तेमाल किया जाता है, लेकिन केवल वही फूलों को इस्तेमाल किया जाता है जो अपने आप पेड़ से टूटकर नीचे गिर जाते हैं। यह फूल जिसके भी घर आंगन में खिलते हैं वहां हमेशा शांति और समृद्धि का निवास होता है।

हृदय रोग: हृदय रोगों के लिए हरसिंगार का प्रयोग बेहद लाभकारी है। इस के 15 से 20 फूलों या इसके रस का सेवन करना हृदय रोग से बचाने का असरकारक उपाय है, लेकिन यह उपाय किसी आयुर्वेदिक डॉक्टर की सलाह पर ही किया जा सकता है।

RELATED ARTICLES

कपिल सिब्बल ने सपा से राज्यसभा के लिए किया नामांकन

एफएनएन,उत्तरप्रदेश: राज्यसभा के 11 सदस्यों का कार्यकाल चार जुलाई को समाप्त हो रहा है। इन 11 सीट के लिए दस जून को होने वाले...

ज्ञानवापी परिसर हिंदू पक्ष को सौंपने और पूजा-पाठ की मांग पर सुनवाई आज

एफएनएन,ज्ञानवापी: परिसर हिंदुओं को सौंपने व पूजा-पाठ की मांग के साथ ही इसमें मुस्लिम पक्ष के प्रवेश पर रोक की मांग को लेकर दायर...

दरोगा पर पत्नी का आरोप,दोस्तों से संबंध बनाने का बनाता था दबाव

एफएनएन,कानपुर: अनवरगंज थाना क्षेत्र में एक विवाहित युवती ने अपने दरोगा पति पर दोस्तों से संबंद्ध बनाने का दबाव बनाने का आरोप लगाया। पुलिस...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

CommentLuv badge
- Advertisment -

Most Popular

उत्तराखंड : मंत्रियों पर परफॉरमेंस का दबाव, अपने-अपने विभागों का दिखाना होगा 100 दिन का काम

एफएनएन, देहरादून : प्रदेश में भाजपा सरकार के मंत्रियों को 100 दिन बाद अपने-अपने विभागों का रिपोर्ट कार्ड रखना है। परफॉरमेंस का यह दबाव...

चंपावत : प्रचार में झोंकी ताकत, टनकपुर में सीएम धामी का रोड शो, जनसभा में कहा-एक मॉडल के रूप विकसित होगा क्षेत्र

एफएनएन, टनकपुर : मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने गुरुवार को टनकपुर में रोड शो किया। इसके बाद उन्होंने जनसभा को संबोधित किया। सीएम धामी...

हल्द्वानी में धारदार हथियार से वार कर युवक की निर्मम हत्या, खेत में मिला मृतक का शव

एफएनएन, हल्द्वानी : हल्द्वानी के मुखानी थाना क्षेत्र के मल्ला बमोरी में युवक की धारदार हथियार से वार कर निर्मम हत्या कर दी गई।...

उत्‍तराखंड : हेली सेवाओं को लगेंगे पंख, बनाए जाएंगे 31 नए हेलीपैड

एफएनएन, देहरादून : पर्यटन एवं तीर्थाटन के दृष्टिकोण से महत्वपूर्ण देवभूमि की वादियों की हवाई सैर अब आसान और सुलभ होगी। सैलानियों को आकर्षित...

Recent Comments