Thursday, May 26, 2022
krishna
sarso
04
01
03
previous arrow
next arrow
Shadow
Home बुद्धिजीवियों का कोना सारे मतभेद भुलाकर सरकार और विपक्ष को कोरोना से निपटना होगा

सारे मतभेद भुलाकर सरकार और विपक्ष को कोरोना से निपटना होगा

SPECIAL OFFERS IN GURUMAA ELECTRONICS

कोरोना की आंधी (पहली लहर) में मोदी सरकार द्वारा उठाए जोखिम भरे निर्णय से धन की हानि अधिक, जन की कम हुई थी। हम कह सकते हैं उस आंधी से देश लगभग बच गया था। अब कोरोना की सुनामी आयी है। हम सभी जानते हैं सुनामी से होने वाले विनाश का पता उसके थमने के बाद ही चलता है। सुनामी को हम रोक तो नही सकते परन्तु सरकारें अपनी तैयारी से विनाश को कम से कम कर सकती हैं।
आज पूरा देश जैसे लाचार नजर आ रहा है। अस्पतालों में बेड,आक्सीजन और दवाओं का अभाव है, इसके लिए राज्य सरकारों के साथ केंद्र सरकार भी बराबर की जिम्मेदार है। आपदा प्रबंधन में हम असफल साबित हुए। आप विश्व परिदृश्य में देखें तो पहली लहर में अमेरिका और यूरोप की सरकारें भी लाचार नजर आईं थी, परन्तु सुनामी में उन्होंन अपने उत्तम आपदा प्रबंधन से अपने दशों को बचा लिया। कोरोना आंधी में देश की सरकार और जनता ने इससे बचाव के लिए सब कुछ झोंक दिया था, आज वे दिखाई नही दे रही हैं। जैसे जब जब कुम्भ आता है , तैयारियाँ युद्ध स्तर पर चलती हैं, परन्तु अगले कुम्भ पर सबकुछ नदारद वही हाल आज इस महामारी से हुई तैयारियों का भी दिखाई दे रहा है। सरकार तो इसके लिए सौ प्रतिशत उत्तरदायी है ही, चुनावी रैलियों व कुम्भ कर जनता को वेपरवाह बना दिया। हमारे विपक्ष का हाल तो उससे भी गया गुजरा है। सरकार की पहली तैयारियों की जमकर आलोचना, उसके बाद किसान रैलियों में हर दल ने किसान आंदोलन के नाम पर देश के तमाम हिस्सों में भीड़ बटोरकर भरपूर अराजकता फैलाने का प्रयास किया। और तो और वैक्सीन को लेकर जिस तरह विपक्ष का रवैया रहा वह तो अपराध की श्रेणी में गिना जाना चाहिए। अब भी समय है, सारे मतभेद भुलाकर सरकार और विपक्ष को एक ठोस और दीर्घकालीन नीति बनाकर इससे निपटना होगा, अन्यथा अनर्थ हो जाएगा । रह गई जनता, वह तो स्वेच्छा से या सरकार के भय से सबकुछ करने को तैयार है।

जेबी सिंह, समाजसेवी (रुद्रपुर)

RELATED ARTICLES

पाठकों को भा रही उपन्यास राजधर्म की कहानी, वरिष्ठ पत्रकार संतोष त्रिपाठी ‘प्रखर’ की लेखनी का धमाल

नोएडा में कार्यरत वरिष्ठ पत्रकार संतोष त्रिपाठी 'प्रखर' अपना पहला हिंदी उपन्यास 'राजधर्म...एक अनकही गाथा' लेकर आए हैं। हंस प्रकाशन दिल्ली ने इसे प्रकाशित...

पुस्तक समीक्षा : बरेली की समृद्ध सांस्कृतिक चेतना का सुरम्य गुलदस्ता है ‘ कलम बरेली की ‘

वरिष्ठ पत्रकार निर्भय सक्सेना द्वारा सम्पादित कृति ‘कलम बरेली की’ पढ़ने का सुअवसर मिला। यह कृति बरेली की समृद्ध, सांस्कृतिक विरासत का ऐतिहासिक दस्तावेज...

आजाद भारत की सबसे बड़ी त्रासदी

कोविड-19 महामारी आजाद भारत की सबसे बड़ी त्रासदी है जहां अभी तक लगभग ढाई लाख लोग इस महामारी से अपनी जान गवा चुके हैं...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

CommentLuv badge
- Advertisment -

Most Popular

उत्तराखंड : मंत्रियों पर परफॉरमेंस का दबाव, अपने-अपने विभागों का दिखाना होगा 100 दिन का काम

एफएनएन, देहरादून : प्रदेश में भाजपा सरकार के मंत्रियों को 100 दिन बाद अपने-अपने विभागों का रिपोर्ट कार्ड रखना है। परफॉरमेंस का यह दबाव...

चंपावत : प्रचार में झोंकी ताकत, टनकपुर में सीएम धामी का रोड शो, जनसभा में कहा-एक मॉडल के रूप विकसित होगा क्षेत्र

एफएनएन, टनकपुर : मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने गुरुवार को टनकपुर में रोड शो किया। इसके बाद उन्होंने जनसभा को संबोधित किया। सीएम धामी...

हल्द्वानी में धारदार हथियार से वार कर युवक की निर्मम हत्या, खेत में मिला मृतक का शव

एफएनएन, हल्द्वानी : हल्द्वानी के मुखानी थाना क्षेत्र के मल्ला बमोरी में युवक की धारदार हथियार से वार कर निर्मम हत्या कर दी गई।...

उत्‍तराखंड : हेली सेवाओं को लगेंगे पंख, बनाए जाएंगे 31 नए हेलीपैड

एफएनएन, देहरादून : पर्यटन एवं तीर्थाटन के दृष्टिकोण से महत्वपूर्ण देवभूमि की वादियों की हवाई सैर अब आसान और सुलभ होगी। सैलानियों को आकर्षित...

Recent Comments