Thursday, May 19, 2022
krishna
sarso
04
01
03
previous arrow
next arrow
Shadow
Home राज्य उत्तराखंड ...तो साजिश का शिकार हुए आईपीएस बरिंदरजीत सिंह

…तो साजिश का शिकार हुए आईपीएस बरिंदरजीत सिंह

SPECIAL OFFERS IN GURUMAA ELECTRONICS

बड़ा सवाल : किसे बचा रहे हैं सूबे के बड़े पुलिस अधिकारी

 

एफएनएन, देहरादून : उधमसिंह नगर के पूर्व एसएसपी बरिंदरजीत सिंह का तबादला आदेश के खिलाफ हाई कोर्ट जाना तमाम सवाल छोड़ गया। बरिंदरजीत ने आरोप लगाया है कि सूबे के बड़े पुलिस अधिकारी उनका उत्पीड़न और अपने कुछ करीबियों को बचाने की कोशिश कर रहे थे। उनके इस आरोप ने सियासत में हलचल पैदा कर दी है। बड़ा सवाल यह है कि सूबे के पुलिस अधिकारी आखिर किस की शह और किसे बचाने की कोशिश कर रहे थे। आईपीएस बरिंदरजीत सिंह की गिनती ईमानदार अफसरो में होती है। भाजपा की जीरो टॉलरेंस नीति के तहत ही उन्हें ऊधमसिंह नगर का पुलिस कप्तान बनाया गया था। हुआ भी वही बरिंदरजीत सिंह न तो किसी के दबाव में आए और न ही किसी के कहने पर चले। उन्होंने विधायकों और उनके रिश्तेदारों तक पर मुकदमें ठोक दिए। ठुकराल पर मुकदमा उनके एसएसपी रहते ही दर्ज किया गया। इस बीच कुछ दिनों पहले ऊधमसिंह नगर से उनकी विदाई काफी कुछ इशारा कर रही थी, लेकिन तबादला एक प्रक्रिया है तो इस पर लोगों ने ज्यादा दिमागी जोर नहीं डाला। अब क्योंकि बरिंदरजीत सिंह अपने ही विभाग के डीजीपी, डीजी लॉ एंड ऑर्डर और पूर्व आईजी के खिलाफ हाई कोर्ट पहुंच गए हैं तो तमाम सवाल उठ खड़े हुए हैं। सबसे बड़ा सवाल यही है कि आखिर आला अधिकारी किसको बचाने का प्रयास कर रहे थे? यह उनके करीबी हैं रिश्तेदार या फिर सत्ता से जुडे लोग? अभी कहना मुश्किल है। बरिंदरजीत सिंह ने अधिकारियों पर अपने उत्पीड़न का आरोप भी लगाया है, ऐसे में सियासत गरमा गई है। सवाल उठ रहे हैं कि क्या एसएसपी रहते सिंह यहां तनाव में काम कर रहे थे? क्या उनका तबादला साजिश के तहत किया गया? क्या उनका उत्पीड़न किसी साजिश का हिस्सा था? खैर अब कोर्ट ने इस मामले का संज्ञान ले लिया है। यह माना जा रहा है कि जल्द ही इस मामले में कोई निर्णय आएगा। आरोपित अधिकारियों को नोटिस जारी कर दिए गए हैं औऱ उनसे स्पष्टीकरण भी मांग लिया गया है। ऐसे में सियासी हल्कों में चर्चाएं भी शुरू हो गई हैं। बरिंदरजीत सिंह ने अपना तबादला आदेश रद्द किए जाने की मांग भी की है, यानी साफ है कि वह इस आदेश से दुखी है। अब देखना यह है कि कोर्ट इस मामले में क्या रुख लेता है।

RELATED ARTICLES

उत्तराखंड भूस्खलन यमुनोत्री हाईवे का 15 मीटर हिस्सा धंसा, बड़े वाहनों के लिए बाधित

उत्तराखंड के यमुनोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग रानाचट्टी के पास भूस्खलन होने के कारण बड़े वाहनों के लिए अवरुद्ध हो गया है। एनएच की टीम मार्ग...

कॉर्बेट सहित राज्य के सभी राष्ट्रीय पार्कों और चिड़ियाघरों में 12 साल तक के बच्चों की एंट्री फ्री

एफएनएन,रामनगर : विश्व प्रसिद्ध जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क आने वाले पर्यटकों के लिए अच्छी खबर है। जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क में 12 साल तक...

सरकारी नौकरी : बेरोजगारों के लिए खुशखबरी, जुलाई में निकल रही हैं यहां बंपर भर्तियां, हो जाएं अलर्ट

एफएनएन, देहरादून : अगर आप सरकारी नौकरी की तलाश में हैं तो आपके लिए अच्छी खबर है। प्रदेश में जुलाई महीने में समूह-ग की...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

CommentLuv badge
- Advertisment -

Most Popular

बारामुला ग्रेनेड हमले में लश्कर-ए-तैयबा के चार आतंकी, एक सहयोगी भी गिरफ्तार

एफएनएन,श्रीनगर:बारामुला में शराब की दुकान पर ग्रेनेड हमला करने वाले लश्कर-ए-तैयबा के चार आतंकवादियों समेत एक सहयोगी को गिरफ्तार कर लिया है। आइजीपी कश्मीर...

उत्तराखंड भूस्खलन यमुनोत्री हाईवे का 15 मीटर हिस्सा धंसा, बड़े वाहनों के लिए बाधित

उत्तराखंड के यमुनोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग रानाचट्टी के पास भूस्खलन होने के कारण बड़े वाहनों के लिए अवरुद्ध हो गया है। एनएच की टीम मार्ग...

ज्ञानवापी मामले में निचली अदालत में सुनवाई पर रोक, कल सुप्रीम कोर्ट करेगी सुनवाई

एफएनएन,बनारस सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि ज्ञानवापी मामले पर कल 3 बजे सुनवाई करेगी। तब तक वाराणसी की सिविल अदालत इस मामले में...

कॉर्बेट सहित राज्य के सभी राष्ट्रीय पार्कों और चिड़ियाघरों में 12 साल तक के बच्चों की एंट्री फ्री

एफएनएन,रामनगर : विश्व प्रसिद्ध जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क आने वाले पर्यटकों के लिए अच्छी खबर है। जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क में 12 साल तक...

Recent Comments